देश

‘चक दे’ फेम ने पति पर किया उत्पीड़न का केस

इम्फाल
भारतीय महिला हॉकी टीम की पूर्व कप्तान वाइखोम सूरजलता देवी के संघर्ष और सफलता के सफर की कहानी को वर्ष 2007 में फिल्म 'चक दे इंडिया' के जरिए लोगों के बीच रखा गया। यह किरदार लोगों के लिए प्रेरणादायक भी बना। सूरजलता देवी इन दिनों जिंदगी के अहम दोराहे पर आकर खड़ी हैं। दांपत्य जीवन के तानेबाने कुछ यूं उलझ गए हैं कि सूरजलता को पुलिस स्टेशन का दरवाजा खटखटाना पड़ा है। उन्होंने अपने पति के खिलाफ घरेलू हिंसा, शारीरिक उत्पीड़न और मानसिक प्रताड़ना की शिकायत दर्ज कराई है।

एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बुधवार को सूरजलता ने कहा कि 2005 में शादी के बाद से दहेज के लिए पति लगातार प्रताड़ित कर रहा है। सूरजलता देवी की कप्तानी में भारतीय महिला हाकी टीम ने 2002 राष्ट्रमंडल खेल, 2003 एफ्रो एशियाई खेल और 2004 हॉकी एशिया कप में स्वर्ण पदक जीता। उन्होंने कहा, ‘ मैं शादी के बाद अपने पदक और फोटो लेकर आई तो मेरे पति शांता सिंह ने उलाहना दिया कि इनका क्या फायदा। उसने अनैतिक आचरण के कारण अर्जुन पुरस्कार जीतने का भी आरोप लगाया।’

'शादी के बाद से हो रहा है शोषण'
अर्जुन अवॉर्डी सूरजलता (39) अब दो बच्चों की मां हैं। उन्होंने अपनी तीन शिकायतों में कहा है कि वर्ष 2005 में उनकी शांताकुमार से शादी हुई थी, जिसके बाद से ही उनका दहेज को लेकर मानसिक और शारीरिक शोषण किया जा रहा है।

'…फिर किया शिकायत दर्ज कराने का फैसला'
दो बच्चों की मां सूरजलता ने कहा कि नवंबर 2019 में कपूरथला में नशे में धुत होकर जब उनके पति ने कथित तौर पर उन्हें पीटा तो उन्होंने शिकायत दर्ज कराने का फैसला लिया। सूरजलता वहां रेल कोच फैक्ट्री द्वारा आयोजित टूर्नमेंट में मैच अधिकारी थीं। उन्होंने कहा, 'मैं किसी तरह से वहां से भाग निकली 14 नवंबर को इम्फाल पहुंची। मैंने जेएनआईएमएस अस्पताल में अपना इलाज कराया। इसके बाद 16 नवंबर को घरेलू हिंसा की शिकायत दर्ज कराई।'

Tags

Related Articles

Close