विदेश

इमरान के इशारे पर भारत विरोधी कामों में जुटीं थीं ब्रिटिश सांसद

 लंदन
भारत ने यूनाइटेड किंगडम (यूके) की लेबर पार्टी की सांसद डेबी अब्राहम्स का ई-वीजा कैंसल करते हुए उन्हें दिल्ली एयरपोर्ट से दुबई डिपोर्ट कर दिया। डेबी कश्मीर पर एक ब्रिटिश पार्ल्यामेंट्री ग्रुप का संचालन करती हैं जिसके ज्यादातर सदस्य पाकिस्तान या पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) मूल के हैं और ये सभी भारत विरोधी हैं। ऑल पार्टी पार्ल्यामेंट्री कश्मीर ग्रुप (APPKG) कश्मीर को लेकर भारत की लगातार आलोचना करता रहा है।

कश्मीर पर बने ग्रुप की चेयरमैन हैं डेबीयह ग्रुप 'बातचीत के जरिए कश्मीरियों के आत्मनिर्णय के अधिकार को समर्थन देने' और 'कश्मीर में मानवाधिकार हनन की घटनाओं को उजागर करने के साथ-साथ लोगों को न्याय दिलाने की मुहिम छेड़ने' का दावा करता है। बड़ी बात है कि इस ग्रुप का एक भी सदस्य भारतीय मूल का नहीं है। डेबी अब्राहम्स इस ग्रुप की चेयरमैन हैं और यूके की संसद में ऑल्डम ईस्ट ऐंड सैडलवर्थ संसदीय क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करती हैं जहां पाकिस्तानी मीरपुरी समुदाय के लोगों की बड़ी तादाद है।

पाकिस्तानी, पीओके मूल के लोगों से भरा पड़ा है ग्रुप
नवंबर 2019 में ग्रुप मेंबरशिप रजिस्टर को अपडेट किया गया था जिसके मुताबिक इस ग्रुप के सीनियर वाइस-चेयर लेबर सांसद इमरान हुसैन हैं। ब्रैडफोर्ड से सांसद इमरान पाकिस्तान मूल के हैं जो सालों से भारत के खिलाफ आग उगल रहे हैं। उन्होंने पिछले साल सितंबर महीने में पीओके और नियंत्रण रेखा (एलओसी) का दौरा किया था और पाकिस्तानी सेना के अधिकारियों को ब्रीफ करने का दावा किया था। उन्होंने ब्रिटेन के एक स्थानीय अखबार से कहा था कि कश्मीर में जो हो रहा है, वह एक 'वॉर क्राइम (युद्ध अपराध)' है।

पीओके के मीरपुर में जन्मे लॉर्ड नजीर अहमद इस पार्ल्यामेंट्री ग्रुप के ऑनरेरी प्रेजिडेंट हैं। ये 15 अगस्त, 2019 को लंदन स्थित भारतीय उच्चायोग के सामने हुए ब्रिटिश पाकिस्तानियों के विरोध प्रदर्शन के मुख्य वक्ताओं में शामिल थे। भारत के स्वतंत्रता दिवस पर आयोजित भारत विरोधियों का यह प्रदर्शन हिंसक हो गया था जिसमें उच्चायोग की बिल्डिंग को नुकसान पहुंचा था।

APPKG के ऑनरेरी वाइस-प्रेजिडेंट अफजल खान भी पाकिस्तान में पैदा हुए हैं। वो मैनचस्टर गॉर्टन से लेबर पार्टी के सांसद चुने गए हैं। अफजल खान ने 5 अगस्त, 2019 को पत्र लिखकर यूके के प्रधानमंत्री बॉरिस जॉनसन से मांग की थी कि वो 'भारत सरकार की कार्रवाइयों और कश्मीर के अधिग्रहण के लिए आर्टिकल 370 को अवैध एवं असंवैधानिक तरीके से निष्प्रभावी बनाने के फैसले की कड़ी आलोचना करें।'

इस ग्रुप के सेक्रटरी पीओके के कोटली में पैदा हुए लॉर्ड हुसैन हैं। लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी के नेता हुसैन जम्मू-कश्मीर को लेकर भारत की अक्सर निंदा करते रहते हैं। वहीं, सीनियर वाइस-चेयर जैक ब्रेर्टन स्टोक-ऑन-ट्रेंट से कंजर्वेटिव पार्टी के सांसद हैं। 8 अगस्त, 2019 को ब्रेर्टन ने ब्रिटेने के विदेश मंत्री डोमिनिक राब को पत्र लिखकर कहा था कि आर्टिकल 370 को निष्प्रभावी बनाने से 'खतरनाक परिस्थिति पैदा हो गई है और इससे तनाव बढ़ेगा।'

ग्रुप के सदस्यों से हैरानी नहीं: भारतीय सूत्र
लंदन में भारतीय कूटनीतिक सूत्रों ने टाइम्स ऑफ इंडिया से कहा, 'APPKG जिस तरह के समारोह आयोजित करता रहत है, इन आयोजनों में पाकिस्तान के जिन अराजक तत्वों को न्योता देता है और जिस तरह के मुद्दों का यह समर्थन करता है, उससे हमें इसकी ऐसी सदस्यता पर कोई हैरानी नहीं होती है।'

Tags

Related Articles

Close