भोपाल

7 साल के छात्र ने टॉयलेट के गेट पर पेशाब की तो चौकीदार ने कर दी हत्या

भोपाल
भोपाल के आदिवासी हॉस्टल (Tribal hostel) में 7 साल के छात्र (STUDENT) की हत्या (MURDER) की गुत्थी पुलिस ने सुलझा ली है. छात्र की हत्या हॉस्टल के चौकीदार (Watchman) ने की थी, जिसे पुलिस (police) ने गिरफ़्तार (arrest) कर लिया है. आरोपी ने अपना जुर्म कबूल लिया है. हत्या की वजह भी ऐसी कि जिसे सुनकर कोई भी चौंक जाए.

भोपाल के पिपलानी इलाके में स्थित आदिवासी हॉस्टल में रहने वाले 7 साल के सूरज की लाश बुधवार को हॉस्टल के बाथरूम में पड़ी मिली थी. वो बाथरूम गया था. जब देर तक लौटा नहीं तो इसी हॉस्टल में रहने वाला उसका बड़ा भाई दीपक उसे ढूंढ़ते हुए बाथरूम आया. वहां सूरज निढाल पड़ा था. दीपक के शोर मचाते ही सब इकट्ठे हो गए और फौरन हॉस्टल की वॉर्डन रेचल राम को दी. मौके पर पहुंची पिपलानी पुलिस सूरज को लेकर अस्पताल पहुंची लेकिन तब तक तो बच्चे की मौत हो चुकी थी. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में उसकी मौत की वजह सिर पर चोट लगना बताया गया. हत्या के बाद उसका गला दबाया गया.

पुलिस ने शक के आधार पर हॉस्टल के चौकीदार जगदीश को हिरासत में लेकर पूछताछ की उसने अपना जुर्म कबूल लिया. 7 साल के मासूम की हत्या की वजह ऐसी कि सुनकर गुस्सा आ जाए. घटना वाले दिन हॉस्टल के सभी बच्चे टीवी देख रहे थे. उसी दौरान सूरज को वॉशरूम जाना था. वॉशरूम नीचे की मंज़िल पर था.उसे वहां जाने में डर लग रहा था. मासूम सूरज ने वॉशरूम के दरवाजे पर ही पेशाब कर दी. बस नशे में धुत जगदीश को इसी बात पर गुस्सा आ गया. उसने सूरज के सिर पर पीछे से डंडा मार दिया. उसके गिरते ही वो सूरज को घसीट कर वॉशरूम में ले गया और उसका गला घोंट दिया. लाश को वहीं छोड़कर वो बाहर चला गया.

मासूम की हत्या के बाद पुलिस ने चौकीदार जगदीश, हॉस्टल की अधीक्षिका और वॉर्डन से पूछताछ की थी. हॉस्टल में हुई इस वारदात के बाद भोपाल कलेक्टर तरुण पिथौड़े ने हॉस्टल अधीक्षिका रेचल रामऔर पर्यवेक्षण अधिकारी शकील कुरैशी दोनों को निलंबित कर मजिस्ट्रियल जांच का आदेश दिया था.सूरज घर में सबका लाड़ला था सूरज के पिता सीहोर जि़ले के रहटी में रहते हैं. उन्होंने इसी साल जुलाई 2019 में अपने दोनों बच्चों का एडमिशन पटेल नगर स्थित शासकीय अनुसूचित जनजाति बालक माध्यमिक शाला में कराया था. सूरज पहली कक्षा में पढ़ता था.इस हॉस्टल में फिलहाल 8वीं कक्षा तक के 56 बच्चे रहते हैं. इनकी उम्र 6 से 15 साल तक है. इन बच्चों के साथ दो कर्मचारी जगदीश और प्रमोद भी हॉस्टल में अपनी पत्नियों के साथ रहते हैं.सूरज की मौत के मामले में हत्या का केस दर्ज किया गया है. उसके साथ किसी तरह की ज्यादती या कुकर्म होने की बात पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में नहीं आयी है.

Related Articles

Close