देश

मेरठ हिंसा के दौरान पुलिस पर गोलियां चलाने वाला PFI सदस्य अनीस खलीफा गिरफ्तार

 मेरठ                                                                     
मेरठ में 20 दिसंबर को हुई हिंसा में पुलिस पर गोलियां चलाने वाले अनीस खलीफा को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। उस पर 20 हजार का इनाम था। पुलिस ने आरोपी की फायरिंग करते हुए फोटो सोशल मीडिया पर शेयर की थी, जिसके बाद उसकी पहचान हुई। इसके बाद ही पुलिस ने अनीस पर इनाम बढ़ाया था। उसकी निशानदेही पर पिस्टल भी बरामद कर ली गई है।

20 दिसंबर को मेरठ में हजारों की संख्या में बवालियों ने सड़कों पर उतरकर पुलिस के सामने उपद्रव मचाया। पुलिस पर पथराव और फायरिंग की गई। लिसाड़ी गेट में तीन जगह और नौचंदी में दो जगहों पर पुलिस को घेरकर गोलीबारी की गई थी। इस्लामाबाद चौकी को भी बवालियों ने आग के हवाले कर दिया था। 35 से ज्यादा पुलिसकर्मियों को एक दुकान में बंद कर जिंदा जलाने का प्रयास किया गया। इस मामले में पुलिस ने कुछ आरोपियों के फोटो सोशल मीडिया पर शेयर किए थे, जो पुलिस पर फायरिंग करते हुए दिखाई कर रहे थे। इन सभी के फोटो बाजारों और थानों पर भी लगाए गए थे।

तीन आरोपियों की धरपकड़ पुलिस कर चुकी है, जबकि 20 हजार का इनामी अनीस खलीफा फरार चल रहा था। लिसाड़ी गेट पुलिस ने अनीस खलीफा को मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया। आरोपी से पिस्टल भी बरामद कर ली गई। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि अनीस सद्दीकनगर का रहने वाला है और उसका कपड़े का कारोबार है। बताया कि आरोपी के खिलाफ लिसाड़ी गेट में मुकदमा दर्ज है और पुराना आपराधिक रिकार्ड मिला है। आरोपी को कोर्ट भेजा जाएगा।

10-12 लोगों की पहचान में जुटी पुलिस
अनीस जब पुलिस पर फायरिंग कर रहा था तो उसके साथ 10 से 12 युवक दिखाई दे रहे थे। इस वीडियो को पुलिस ने सुरक्षित कर लिया था। अब अनीस खलीफा की गिरफ्तारी के बाद टीम पूछताछ में लगी है। प्रयास किया जा रहा है कि बाकी आरोपियों की भी पहचान की जाए। ऐसा हुआ तो बाकी आरोपी भी सलाखों के पीछे होंगे।

पुलिस पर फायरिंग करने में अनीस वांटेड था और 20 हजार का इनामी था। उसे गिरफ्तार कर लिया गया है। पूछताछ की जा रही है कि उसके साथ हिंसा में और कौन-कौन शामिल था। -अजय साहनी, एसएसपी, मेरठ।

Related Articles

Close