देश

दोषियों को आज तिहाड़ की जेल नंबर तीन में भेजा जा सकता है: निर्भया केस

 
नई दिल्ली

पूरे देश को झकझोर देने वाले 2012 निर्भया गैंगरेप के गुनहगारों को डेथ वॉरंट मिलने के बाद आज को तिहाड़ की जेल नंबर तीन में ट्रांसफर किया जा सकता है, जहां उन्हें 22 जनवरी को फांसी दी जाएगी। तिहाड़ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इसकी पुष्टि की। फिलहाल तीन दोषियों को जेल नंबर दो में और एक को जेल नंबर चार में रखा गया है। तिहाड़ जेल प्रशासन ने उत्तर प्रदेश जेल के अधिकारियों को पत्र लिखकर दो जल्लादों की बुलाया था ताकि 2012 के निर्भया सामूहिक बलात्कार व हत्या मामले के चार दोषियों को एक साथ फांसी दी जा सके।

अदालत की ओर से मंगलवार को जारी एक आदेश में कहा गया कि चारों दोषियों को 22 जनवरी को सुबह सात बजे फांसी दी जाएगी। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘हमने गुरुवार को उत्तर प्रदेश के जेल अधिकारियों को पत्र लिखा है और उपलब्धता के आधार पर दो जल्लादों की सेवा मांगी है।' उन्होंने कहा कि दो जल्लादों में से एक की उम्र अधिक है जबकि मेरठ के पवन जल्लाद चारों को फांसी पर लटकाने की पहले ही इच्छा जता चुके हैं।

उधर, निर्भया गैंगरेप और मर्डर केस के एक और दोषी मुकेश ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटिशन यानी सुधारात्मक याचिका दायर की है। इससे पहले, दोपहर में एक अन्य दोषी विनय कुमार शर्मा ने फांसी से बचने के आखिरी प्रयास में क्यूरेटिव पिटिशन डाली थी। दोषियों की पुनर्विचार याचिका खारिज हो चुकी है लिहाजा क्यूरेटिव पिटिशन ही अब उनके लिए आखिरी कानूनी विकल्प है।

Tags

Related Articles

Close