देश

CAA के खिलाफ देशभर में प्रदर्शन: UP सुलगा-दिल्ली ठप, हिंसा और मौत, इंटरनेट बैन, लाठीचार्ज 

 नई दिल्ली 
नागरिकता कानून के खिलाफ देशभर में गुरुवार को प्रदर्शन देखने को मिला। नागरिकता कानून को लेकर हो रहे विरोध से गुरुवार को दिल्ली ठप हो गई तो देशभर में विरोध और तेज हो गया। इस दौरान दिल्ली, यूपी समेत 10 राज्यों में प्रदर्शन और हिंसक घटनाएं हुईं। दिल्ली, यूपी और कर्नाटक समेत कई जगहों पर हिंसक झड़प में कई लोग घायल हो गए और कई सारे लोगों को हिरासत में लिया गया। बता दें कि गुरुवार को वामदलों और कुछ मुस्लिम संगठनों ने भारत बंद का आह्वान किया था, जिसका पूरे देश भर में मिला-जुला असर  देखने को मिला। दिल्ली में न सिर्फ जोरदार प्रदर्शन देखने को मिला, बल्कि मेट्रो बंद होने और लंबा जाम लगने से जीवन पूरी तरह से अस्त-व्यस्त हो गया। वहीं, लखनऊ व संभल को छोड़कर अन्य जिलों में धरना-प्रदर्शन शांतिपूर्ण रहा। लखनऊ में उपद्रव के दौरान एक दर्जन वाहनों में आगजनी व तोड़फोड़ की गई। इस दौरान लखनऊ में 16 और संभल में दो पुलिसकर्मी घायल हुए हैं। कर्नाटक में दो लोगों की  मौत हो गई और लखनऊ में एक की मौत की खबर है। 

दिल्ली का हाल:
राष्ट्रीय राजधानी में इस कानून के खिलाफ प्रदर्शन पर लगी रोक के बावजूद सड़कों पर उतरने के चलते सैकड़ों छात्रों, सामाजिक कार्यकर्ताओं और विपक्षी नेताओं को हिरासत में लिया गया, जबकि कई इलाकों में मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गईं। कई मेट्रो स्टेशनों को भी बंद कर दिया गया, जिससे शहर में यातायात प्रभावित हुआ। ज्यादातर स्थानों पर विरोध प्रदर्शन शांतिपूर्ण रहा और प्रदर्शनकारियों ने नये कानून पर अपना विरोध व्यक्त करने के लिए नारे लगाये। प्रदर्शनकारियों ने जामिया मिल्लिया इस्लामिया और अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के छात्रों के खिलाफ पुलिस कार्रवाई को बर्बरतापूर्ण बताया।

कई नेता हिरासत में : दिल्ली में लालकिला के आसपास धारा 144 लागू होने के बाद भी भारी संख्या में प्रदर्शनकारी जमा हो गए। पुलिस ने विपक्षी नेताओं डी.राजा, सीताराम येचुरी, संदीप दीक्षित, अजय माकन, योगेंद्र यादव, उमर खालिद समेत कई लोगों को हिरासत में लिया।  
एक्सप्रेस वे पर लंबा जाम: विरोध प्रदर्शन को देखते हुए 20 मेट्रो स्टेशन बंद करने पड़े। इसके अलावा सुबह नौ से दोपहर एक बजे तक कई इलाकों में इंटरनेट सेवाएं बंद रखी गईं। दिल्ली-गुरुग्राम एक्सप्रेस वे पर लंबा जाम लग गया। इस कारण हवाईअड्डे जाने वाले लोगों को भारी परेशानी हुई। 

सुरक्षा बलों की 52 कंपनियां तैनात: राजधानी में कानून एवं व्यवस्था बनाए रखने के लिए दिल्ली पुलिस के अलावा आरएएफ और सीआरपीएफ समेत अन्य बलों की 52 कंपनियां तैनात की गई हैं। साथ ही अफवाह फैलाने वालों नजर रखी जा रही है। पुलिस ने ऐसे लोगों पर कानूनी कार्रवाई की चेतावनी दी है। 

कांग्रेस ने बैठक की: संशोधित नागरिकता कानून को लेकर जारी विरोध-प्रदर्शन के बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी के आवास पर बैठक की। इसमें देश के विभिन्न हिस्सों में स्थिति के बारे में चर्चा की गई । 

संवेदनशील क्षेत्रों में विशेष सुरक्षा 
शुक्रवार को जुमे की नमाज के चलते यूपी के संवेदनशील क्षेत्रों में विशेष सुरक्षा व्यवस्था। आरएएफ की कई टुकड़ियां तैनात की गईं।  

सीएम केजरीवाल ने अपील की 
दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा, नागरिकता कानून की जरूरत नहीं है। सरकार युवाओं को रोजगार मुहैया कराने पर ध्यान दे। 
विमान सेवाएं बुरी तरह प्रभावित 

दिल्ली में प्रदर्शन के चलते कई जगह जाम लगा। विमान सेवाएं प्रभावित रहीं। इंडिगो की 19 उड़ानें रद्द रहीं। 16 उड़ानों में देरी हुई। 

कानून हर हाल में लागू होगा : नड्डा
भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि देश में संशोधित नागरिकता कानून हर हाल में लागू होगा। एनआरसी भी लागू किया जाएगा। 

लखनऊ का हाल:
विरोध के दौरान राजधानी लखनऊ में हिंसा भड़क उठी, जिसमें एक की मौत हो गई जबकि तीन अन्य घायल हुए हैं। हिंसा में लखनऊ में 16 और संभल में दो पुलिसकर्मी घायल हुए हैं। पुलिस ने पुष्टि की कि दो लोग पुलिस की गोलीबारी में घायल हुए और उन्हें अस्पताल ले जाया गया जहां उनकी मौत हो गई।    

लखनऊ में इंटरनेट सेवा बंद:
संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में गुरुवार को हुई हिंसा के बाद राज्य सरकार ने राजधानी में शनिवार दोपहर तक मोबाइल इंटरनेट एवं एसएमएस सेवाएं बंद दी। अतिरिक्त मुख्य सचिव अवनीश कुमार अवस्थी ने इस संबंध में गुरूवार की देर रात निर्देश जारी किया ।

अवस्थी ने सरकारी आदेश में कहा है, ''यह आदेश 19 दिसंबर को दोपहर बाद तीन बजे से 21 दिसंबर को दोपहर 12 बजे तक प्रभावी रहेगा। इससे पहले एक अधिकारी ने भाषा को बताया कि सोशल मीडिया पर किसी तरह के दुष्प्रचार और लोगों की भावनाएं भड़काने वाली कोई पोस्ट को प्रसारित होने रोकने के लिए राजधानी में शनिवार दोपहर तक मोबाइल इंटरनेट एवं एसएमएस सेवाओं को बंद कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि कल जुमे की नमाज होने की वजह से किसी तरह की कोई अशांति पैदा न हो, इस वजह से प्रशासन ने यह कदम उठाया है।

योदी ने क्या कहा:
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हिंसक प्रदर्शन पर सख्त रुख अपनाया था और सार्वजनिक संपत्ति को हुई नुकसान की भरपाई उपद्रवियों की संपत्ति से करने की बात की थी। उन्होंने कहा, ''लोकतंत्र में हिंसा के लिए कोई जगह नहीं है। संशोधित नागरिकता कानून के विरोध के नाम पर कांग्रेस, सपा और वाम दलों ने पूरे देश को आग में झोंक दिया है।

कर्नाटक का हाल:
कर्नाटक के मंगलुरु में हिंसक प्रदर्शन को काबू करने लिए पुलिस की ओर से चलाई गई गोली में दो लोगों की मौत हो गई। पुलिस ने यह जानकारी दी। 

Tags

Related Articles

Close