मनोरंजन

नहीं रहे डॉ. श्रीराम लागू, सीएम उद्धव ठाकरे ने बताया ‘नटसम्राट’

नई दिल्ली

मशहूर अभिनेता डॉ. श्रीराम लागू का 92 साल की उम्र में मंगलवार को निधन हो गया। बीमार चल रहे लागू का निधन कार्डिएक अरेस्ट के चलते हुआ। उनके बेटे और बहू के अमेरिका से आने के बाद डॉ. लागू का अंतिम संस्कार किया जाएगा। डॉ. श्रीराम लागू के निधन पर फिल्मी हस्तियों के साथ-साथ राजनीतिक हस्तियों ने भी दुख व्यक्त किया है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने श्रीराम लागू को 'नटसम्राट' बताते हुए उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की।

‘नटसम्राट’ उस मराठी नाटक का नाम है, जिसमें श्रीरा लागू ने अभिनय किया था। 'नटसम्राट' नाटक में लागू ने गणपत बेलवलकर की भूमिका निभाई थी, जिसे मराठी थिअटर के लिए मील का पत्थर माना जाता है। सीएम उद्धव ठाकरे ने अपने शोक संदेश में कहा, 'मराठी रंगमंच ने अपने प्यारे नटसम्राट को खो दिया।' राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के नेता अजित पवार ने कहा कि लागू के निधन की खबर दुखद है।
 
स्कूल के समय से ही थी ऐक्टिंग में रुचि
श्रीराम लागू का जन्म 1927 में महाराष्ट्र के सतारा में हुआ था। प्रशिक्षित ईएनटी सर्जन लागू ने विजय तेंडुलकर, विजय मेहता और अरविंद देशपांडे के साथ आजादी के बाद वाले काल में महाराष्ट्र में रंगमंच को आगे बढ़ाने में अहम भूमिका निभाई थी। उनकी आत्मकथा के 'लमान' के मुताबिक, उन्हें स्कूल के समय से ही ड्रामा और थिअटर में रुचि थी। पुणे के बी जे मेडिकल कॉलेज में पढ़ाई के दौरान उन्होंने एक ड्रामा ग्रुप जॉइन कर लिया था। हालांकि, 40 साल की उम्र तक वह कमर्शल ऐक्टर नहीं बन पाए। पढ़ाई खत्म करने के बाद वह सर्जन बने और केन्या के एक अस्पताल में कई सालों तक काम किया।

नौकरी छोड़ने और फुल टाइम ऐक्टर बनने के बाद श्रीराम लागू को पहले सफलता 1972 में आई फिल्म 'पिंजरा' से मिली। 'पिंजरा' के अलावा मराठा नाटकों 'नटसम्राट' और 'हिमालयाची साओली' में उनके रोल के दम पर उनकी पहचान बनी। बॉलिवुड की फिल्मों 'एक दिन अचानक', 'घरौंदा', 'मुकद्दर का सिकंदर' और 'लावारिस' के दम पर उन्होंने अपनी काबिलियत का लोहा मनवाया। रिचर्ड अटनब्रो की फिल्म 'गांधी' में लागू ने गोपाल कृष्ण गोखले का किरदार निभाया।

तर्कवादी और प्रगतिशील विचारों वाले थे श्रीराम लागू
थिअटर की दुनिया में 'डॉक्टर' नाम से मशहूर रहे लागू को उनके प्रगतिशील और तर्कवादी विचारों के लिए जाना जाता था। महाराष्ट्र टाइम्स में लागू के एक लेख 'परमेश्वरला रिटायर करा' यानी भगवान को रिटायर करने का वक्त आ गया है, शीर्षक से छपा, जिसको लेकर खूब चर्चा हुई। लागू के परिवार में उनकी पत्नी (ऐक्टर दीपा लागू) के अलावा एक बेटी और एक बेटा है। उनके बेटे तनवीर की मौत एक हादसे में हो गई थी।