देश

अब बसों के लिए भी होगा दिल्ली का नाम: केजरीवाल

 
नई दिल्ली

दिल्ली में आने वाली 1000 स्टैंडर्ड फ्लोर बसों की खेप के तहत गुरुवार को 100 नई बसों को राजघाट डिपो से रवाना किया गया। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने नई बसों को हरी झंडी दिखाते हुए कहा कि कुछ महीनों में 3 हजार नई बसें दिल्ली की सड़कों पर होंगी। जैसे दिल्ली को आज शिक्षा, स्वास्थ्य में हुए काम के लिए जाना जाता है, जल्द ही बसों सिस्टम के लिए भी जाना जाएगा। इन बसों में हाइड्रोलिक लिफ्ट, पैनिक बटन, सीसीटीवी, जीपीएस समेत सभी आधुनिक सुविधाएं उपलब्ध हैं।
 इस मौके पर उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत भी मौजूद थे। इससे पहले 25 अक्टूबर को 104 और उससे पहले 25 नई बसों को पब्लिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम से जोड़ा गया था। परिवहन मंत्री ने कहा कि एक हजार नई बसें दिल्ली के ग्रामीण इलाकों में परिवहन व्यवस्था को मजबूत करेंगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली सरकार अगले 6-7 महीनों में सड़कों पर 3000 नई बसें उतारने वाली है। इनमें 1000 इलेक्ट्रिक बसें भी दिल्ली में आएंगी। यह भारत में किसी राज्य में अब तक का सबसे बड़ा इलेक्ट्रिक बसों का बेड़ा होगा। नई क्लस्टर बसों का अच्छी तरह से रखरखाव किया जाएगा। जैसे सरकार अस्पतालों का रखरखाव कर रही है, वैसे ही बसों का भी करेंगे। उन्होंने कहा कि स्कूलों और अस्पतालों को बनाए रखने के लिए पिछली सरकारों को भी बजट मंजूर किए थे, लेकिन केवल आम आदमी पार्टी सरकार ने स्कूलों और अस्पतालों को बेहतर बनाने पर काम किया है।
 
ऑड-ईवन से छूट पर फैसला
मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा कि श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व पर 11 और 12 नवंबर को ऑड-ईवन योजना से छूट पर फैसला लेने के लिए एक बैठक होगी। उन्होंने कहा कि हम सिख समुदाय की भावनाओं का सम्मान करते हैं। कई सिख संगठनों ने सरकार से कहा है कि इस प्रकाश पर्व पर 11 और 12 नवंबर को ऑड-ईवन ड्राइव से छूट दी जाए। सरकार इस पर जल्द फैसला लेगी।

300 इलेक्ट्रिक बसें जल्द
मुख्यमंत्री ने कहा कि डीटीसी की ओर से 300 इलेक्ट्रिक बसों की खरीद के लिए टेंडर जारी कर चुका है। ये बसें 1,000 क्लस्टर ई-बसों के अलावा होंगी, जिन्हें पहले से ही मौजूदा बेड़े में जोड़ा जाना तय है। टेंडर जमा करने की अंतिम तिथि 13 नवंबर है। 1,000 लो-फ्लोर, एसी, सीएनजी-रन क्लस्टर बसों के लिए वित्तीय बोली भी खोली गई है।

कैसी हैं नई बसें
37 सीटों वाली सभी बसों में हाइड्रोलिक लिफ्ट- दिव्यांगों को नहीं होगी परेशानी।
14 पैनिक बटन लगाए गए हैं हर बस में- हर साइड में 7-7 पैनिक बटन
3 सीसीसीटीवी कैमरे होंगे अंदर, हूटर के साथ पैनिक बटन भी होंगे

पैनिक बटन
हर बस में यात्री केबिन में अलग-अलग पॉइंट पर पैनिक बटन होंगे। जब कोई यात्री पैनिक बटन दबाएगा, तो बस का सीसीटीवी फुटेज सीधे सेंट्रल कमांड सेंटर पर चला जाएगा और पुलिस हॉटलाइन तुरंत सक्रिय हो जाएगी। बस का जीपीएस लोकेशन स्वत बैकएंड तक पहुंच जाएगा। पैनिक बटन हर बस में सीसीटीवी और जीपीएस के जॉइंट सेट के साथ हैं।

इन रूटों पर चलेंगी 100 बसें
नरेला से मोरी गेट टर्मिनल: 18 बसें
पल्ला से पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन: 17 बसें
नीलवाल से कर्मपुरा टर्मिनल: 6 बसें
उत्तम नगर टर्मिनल से जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम: 8 बसें
नरेला से पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन: 12 बसें
आदर्श नगर से केंद्रीय टर्मिनल: 19 बसें
नांगलोई से नरेला: 20 बसें
 

Tags

Related Articles

Close