देश

उत्तर प्रदेश में आज दांव पर BJP की 9 सीटें

लखनऊ,यूपी की 11 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव के लिए मतदान जारी है। जिन सीटों के लिए चुनाव हो रहा है, उसमें 9 बीजेपी और एक-एक सीट एसपी-बीएसपी के पास थी। सुबह 7 बजे से शुरू हुआ मतदान शाम 6 बजे तक चलेगा। 429 संवेदशील बूथों पर अतिरिक्त सुरक्षा व्यवस्था की गई है।
चुनाव आयोग के अनुसार 337 सेक्टर मैजिस्ट्रेट, 60 जोनल मैजिस्ट्रेट, 471 स्टैटिक मैजिस्ट्रेट और 520 माइक्रो ऑब्जर्वर तैनात किए गए हैं। 429 संवेदनशील बूथों की वेबकास्टिंग कराई जा रही है।
इन सीटों पर मतदान
लखनऊ कैंट, जैदपुर, गोविंदनगर, प्रतापगढ़ सदर, मानिकपुर, बलहा, घोसी, जलालपुर, रामपुर, गंगोह व इगलास।
बीजेपी: नीतियों पर मुहर मानी जाएगी जीत
उपचुनाव में अक्सर कमजोर पड़ जाने वाली बीजेपी के लिए अपनी 9 सीटों को बचाने की चुनौती है। पार्टी की नजर एसपी-बीएसपी की सीटें भी अपने हिस्से कर सिक्का जमाने पर है। कानून-व्यवस्था पर विपक्ष के सवालों से जूझ रही सरकार के लिए नतीजे बेहतर रहे तो नीतियों पर मुहर मानी जाएगी। जिस तरह सीएम योगी आदित्यनाथ और बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने मेहनत की है, उसके बाद नतीजे प्रतिकूल आए तो विपक्ष को हौसले के साथ हमले का मौका भी मिलेगा।
एसपी: बीएसपी से बीस पड़ने की चुनौती
2017 के विधानसभा चुनाव में यूपी में नंबर दो रही एसपी की इस पोजिशन पर 2019 के लोकसभा चुनाव के नतीजों ने खतरा पैदा कर दिया है। चुनाव में साथी रही बीएसपी ने एसपी से अधिक सीट जीत कर अलग राह पकड़ ली है। ऐसे में एसपी के सामने सत्ता के साथ बीएसपी से भी बीस पड़ने की चुनौती है। नंबर दो तय होने पर ही नंबर एक की लड़ाई की जमीन तैयार हो सकेगी और अल्पसंख्यक वोटों की दावेदारी भी तय होगी। एसपी की बड़ी प्रतिष्ठा रामपुर सीट पर लगी है, जहां आजम खां की पत्नी चुनाव लड़ रही हैं।
बीएसपी : आगे की उम्मीदें होंगी मजबूत
विधानसभा चुनाव में सबसे खराब प्रदर्शन के बाद लोकसभा चुनाव के नतीजों ने बीएसपी को संजीवनी दी। बढ़े उत्साह में बीएसपी ने न केवल एसपी से किनारा किया, बल्कि पहली बार उपचुनाव में भी मैदान में है। यहां बेहतर प्रदर्शन बीएसपी के लिए आगे की उम्मीदें मजबूत करेगा। नतीजे खराब रहे तो बड़ी मुश्किल से लौटी उम्मीदों को बरकरार रखना मुश्किल होगा।
कांग्रेस: अच्छे नतीजे पार्टी को देंगे हौसला
कांग्रेस के पास खोने के लिए कुछ नहीं है। लगातार खराब प्रदर्शन के बाद से जमीनी अस्तित्व के लिए संघर्ष जारी है। अगर कांग्रेस उपचुनाव में अच्छा प्रदर्शन करती है तो नए नेतृत्व को भी हौसला मिलेगा और कार्यकर्ताओं का भी मनोबल लौटेगा। नतीजे खराब रहे तो अंदर और भीतर दोनों ही मोर्चे पर नेतृत्व को जूझना होगा।
एक नजर आंकड़ों पर
41.08 लाख वोटर
22.13 लाख पुरुष वोटर
18.94 लाख महिला वोटर
4529 पोलिंग बूथ बनाए गए
109 कुल प्रत्याशी चुनाव मैदान में
24 अक्टूबर को आएगा रिजल्ट
 

Tags

Related Articles

Close