इंदौर

मैग्निफिसेंट मध्य प्रदेश के लिए बिजली आपूर्ति का बना रिकॉर्ड

कंपनी ने तय किया है कि दिवाली के पहले व अन्य जरूरी रखरखाव कार्य 20 से 24 अक्टूबर तक खत्म कर लिए जाएं।

Magnificent MP : मैग्निफिसेंट मध्य प्रदेश के लिए बिजली आपूर्ति का बना रिकॉर्ड

इंदौर। इंवेस्टर्स समिट मैग्निफिसेंट मप्र-2019 के चलते बिजली के शटडाउन पर लगी रोक का असर शहर की बिजली आपूर्ति पर भी नजर आया। 17 और 18 तारीख के 24 घंटों में शहर में बिजली की खपत भी सबसे ज्यादा दर्ज हुई और आपूर्ति का समय भी सबसे अधिक रहा। समिट खत्म होने के बाद अब फिर से रखरखाव व सुधार के लिए बिजली बंद रखने की अनुमति दे दी गई है। मैग्निफिसेंट मध्य प्रदेश-2019 के आयोजन से तीन दिन पहले ही सरकार ने आदेश देकर किसी भी तरह के सुधार या रखरखाव के लिए भी बिजली बंद करने पर रोक लगा दी थी। इसका नतीजा रहा कि 17-18 अक्टूबर को शहर में कुल 86 लाख यूनिट बिजली खपत दर्ज हुई। आम दिनों के मुकाबले करीब 5 लाख यूनिट बिजली ज्यादा बिकी।

दरअसल बिजली कंपनी द्वारा शहर के पांच में से किसी भी संभाग में किसी तरह की आपूर्ति नहीं रोकी। कंपनी के अनुसार इस दौरान बिजली आपूर्ति का कुल समय 24 घंटों के मुकाबले कुल 2.58 घंटे रहा। यह आपूर्ति का इस सीजन का सबसे बेहतर औसत है। औसत आपूर्ति में सिर्फ 2 मिनट का गैप आया। इसका कारण भी शहर के एक-दो क्षेत्रों में कहीं फॉल्ट के चलते कुछ मिनट के लिए बाधित हुई बिजली आपूर्ति हो सकती है।

शनिवार को ऊर्जा मंत्री प्रियव्रत सिंह ने आदेश जारी कर बिजली कंपनी से कहा है कि दीवाली के मुख्य पांच दिनों 25 से 29 अक्टूबर तक प्रदेश में कहीं भी बिजली आपूर्ति बाधित नहीं हो। इस दौरान किसी भी लाइन या सप्लाय स्टेशन में रखरखाव या निर्माण के लिए भी शटडाउन नहीं किया जाए। इंदौर में पहले इंवेस्टर्स समिट और आगे दिवाली के चलते रखरखाव पर रोक लगी है। कंपनी ने तय किया है कि दिवाली के पहले व अन्य जरूरी रखरखाव कार्य 20 से 24 अक्टूबर तक खत्म कर लिए जाएं। इस लिहाज से शटडाउन परमिट जारी किए जा रहे हैं। इन चार दिनों में रखरखाव के लिए शहर के सभी पांच संभागों में एक से दो घंटे के लिए बारी-बारी से कुछ क्षेत्रों में बिजली गुल हो सकती है।

सुरक्षा का प्रशिक्षण देंगे

पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के मुख्यालय पर कंपनी के सीजीएम संतोष टैगोर ने विद्युत कर्मचारी संघों के पदाधिकारियों के साथ बैठक ली। विद्युत सुरक्षा के मुद्दे पर हुई बैठक में कर्मचारी संघों ने लाइन स्टाफ की सुरक्षा को लेकर चिंता जाहिर की। पदाधिकारियों ने कहा कि कंपनी जो भी उपकरण खरीदे जाएं, वे मानक स्तर के ही हों। सुरक्षा को लेकर किसी भी तरह की ढील बर्दाश्त नहीं करेंगे। निर्देश दिए जा रहे हैं कि सुरक्षा से जुड़ी कार्यशाला व प्रशिक्षण का आयोजन हर तीन महीने में हर सर्कल में होगा

Related Articles

Close