छत्तीसगढ़

 महतारी जतन योजना: होने वाला शिशु सेहतमंद रहे इसलिये आंगनबाड़ी केंद्र नियम से पहुंचती है गायत्री 

बिलासपुर । कहते हैं यदि परिवार की महिला सेहतमंद है तो पूरा परिवार सेहतमंद रहता है और यदि महिला गर्भवती है तो उसकी सेहत का असर होने वाले बच्चे पर भी पड़ता है। अपनी और होने वाले बच्चे की सेहत की चिंता करते हुए बिलासपुर जिले के तखतपुर ब्लॉक के ग्राम भरारी की रहने वाली श्रीमती गायत्री दुबे रोजना नियम से भरारी आंगनबाड़ी केंद्र पहुंच जाती हैं। यहां पर उन्हें राज्य सरकार की ‘महतारी जतन योजना’ के अंतर्गत गर्मागर्म पौष्टिक भोजन कराया जाता है। गायत्री बताती हैं कि सामान्यत: घर में सभी सदस्यों को खाना खिलाने के बाद ही मैं खाना खाती थी। इस दौरान कई बार खाना ठंडा हो जाता था। इस पर मेरी सास ने मुझसे सभी से पहले गर्म खाना खाने को कहा। लेकिन मुझे ऐसा करना ठीक नहीं लगता था। चूंकि वे आंगनबाड़ी कार्यकर्ता भी हैं तो उन्होंने मेरा आंगनबाड़ी केंद्र में महतारी जतन योजना के तहत पंजीयन करा दिया। यहां पर मेन्यु के अनुसार रोजाना गर्मागर्म पौष्टिक भोजन मिलता है। यहां हरी सब्जियां, मिक्स दाल, चावल, रोटी, पापड़, सलाद, गुड़ एवं अन्य पौष्टिक आहार खाने को मिलते हैं। यहां पर गर्भवती महिलाओं के टीकाकरण की भी व्यवस्था रहती है। नियमित रूप से स्वास्थ्य की जांच भी होती है। वे बताती हैं कि पिछले तीन माह से लगातार आंगनबाड़ी केंद्र में भोजन करने आ रही हैं। यहां का पौष्टिक भोजन करने के बाद काफी संतुष्टि मिलती है और सेहत की भी चिंता नहीं रहती है। छत्तीसगढ़ सरकार की महतारी जतन योजना ने गर्भवती महिलाओं को चिंता मुक्त कर दिया है। आंगनबाड़ी केंद्र के माध्यम से गर्भवती महिलाओं को प्रतिदिन गर्म पौष्टिक भोजन कराया जाता है। इससे योजना के तहत गर्भावस्था के दौरान पौष्टिक भोजन करने से मां और होने वाला बच्चा दोनों स्वस्थ्य रहते हैं। मातृत्व विकास की दिशा में निश्चित ही ये बड़ा कदम है ।

Tags

Related Articles

Close