देश

अमेरिका में मोदी ने बजाया भारत का डंका 

ह्यूस्टन। भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विश्वशक्ति कहे जाने वाले अमेरिका में भारत का डंका बजा दिया। संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक में शामिल होने के लिए सात दिवसीय दौरे पर शनिवार को अमेरिका पहुंचे मोदी ने रविवार रात ह्यूस्टन में 'हाउडी मोदीÓ नामक कार्यक्रम को संबोधित किया। कार्यक्रम में करीब 50 हजार लोग मौजूद थे। खास बात यह रही कि इस कार्यक्रम में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने मोदी के पक्ष में करीब आधा घंटा संबोधन दिया। अमेरिका में ऐसा पहली बार हो रहा है जबकि किसी अनौपचारिक कार्यक्रम में अमेरिकी राष्ट्रपति शामिल हुए जिसे दूसरे देश के प्रधानमंत्री संबोधित कर रहे हैं। 
हाउडी मोदी के बाद दुनियाभर में भारत की उभरती पहचान की चर्चा शुरू हो चुकी है। यह कार्यक्रम ऐसे समय में हुआ है, जबकि पाकिस्तान सहित देशभर के राष्ट्रप्रमुख संयुक्त राष्ट्र महासभा में शामिल होने अमेरिका में डेरा जमाये हैं। 

क्या है हाऊडी मोदी
ह्यूस्टन के एनआरजी स्टेडियम में टेक्सास इंडिया फोरम ने  हाउडी मोदी कार्यक्रम आयोजित किया था। 
अमेरिकी सरकार के दिग्गज भी आए
अमेरिका की डेमोक्रेटिक और रिपब्लिकन पार्टी के 60 से ज्यादा बड़े नेता इस कार्यक्रम में पहुंचे। लॉ मेकर, कांग्रेसमैन और गवर्नर भी कार्यक्रम में आए। 

कश्मीरी पंडित बोले- कश्मीर पर हर फैसले में हम आपके साथ
मोदी से मिलने कश्मीरी पंडित भी पहुंचे। कश्मीरी पंडितों से मिलने के दौरान पीएम मोदी भी भावुक नजर आए। बातचीत के दौरान कश्मीरी पंडितों के समुदाय का प्रतिनिधित्व करने वाले सुरिंदर कौल ने उनका हाथ चूम लिया। जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के फैसले का स्वागत करते हुए पीएम मोदी से कहा कि जम्मू कश्मीर के विकास के लिए जाने वाले हर कदम में आपके साथ हैं।

विरोध की संभावना
न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक होनी है। न्यूयॉर्क पुलिस के मुताबिक, मोदी-विरोधी रैली के लिए तीन समूहों ने अनुमति मांगी है। इनमें पाकिस्तान के समर्थन वाला एक संस्थान भी शामिल है। पुलिस के मुताबिक, इन प्रदर्शनों में 7 हजार लोग जुट सकते हैं। 
भारत-अमेरिका में हुए समझौते
अमेरिका में प्रधानमंत्री की मौजूदगी में ह्यूस्टन में ऊर्जा के क्षेत्र में एक बड़े कारोबारी सौदे पर हस्ताक्षर हुए। भारत ने टेल्यूरियन और पेट्रोनेट के साथ लिक्विफाइड नेचुरल गैस (एलएनजी) के लिए मेमोरैंडम ऑफ अंडरस्टैंडिंग (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए गए। सौदे के तहत पांच मिलियन टन एलएनजी के लिए एमओयू साइन किया गया है। यह डील ह्यूस्टन के होटल पोस्ट ओक में ऊर्जा क्षेत्र के सीईओ के साथ बैठक में साइन की गई। इस सौदे को अंजाम देने के लिए ट्रैन्जैक्शन एग्रीमेंट को मार्च 2020 तक अंतिम रूप देने का लक्ष्य निर्धारित किया है। गौरतलब है टेल्यूरियन ने फरवरी में पेट्रोनेट एलएनजी लिमिटेड इंडिया (पीएलएल) के साथ एमओयू साइन करके पीएलएल ड्रिफ्टवुड परियोजना में निवेश की संभावनाएं तलाशने का एलान किया था।

Tags

Related Articles

Close