देश

अलकायदा का कुख्यात आतंकी कलीमुद्दीन गिरफ्तार

रांची ।  झारखंड पुलिस और एटीएस को बड़ी सफलता मिली है। एटीएस की टीम ने आतंकी कलीमउद्दीन मुजाहिरी को जमशेदपुर के टाटानगर रेलवे स्टेशन से गिरफ्तार किया। कलीमउद्दीन विभिन्न मदरसा और अन्य स्थानों पर ठहकर युवाओं को आतंकी संगठन अलकायदा और आईएसआईएस में शामिल करने के लिए प्रेरित करता था। वर्ष 2016 में आतंकी घटनाओं में संलिप्तता में मामले में कलीमुद्दीन के कुछ साथियों को गिरफ्तार किया गया था और उनसे पूछताछ के बाद ही पिछले तीन सालों से कलीमउद्दीन की तलाश की जा रही थी। गिरफ्तारी से बचने के लिए कलीमुउद्दीन मुजाहिरी लगातार अपना ठिकाना बदल रहा था।
रांची में एटीएस के एडीजी एमएल मीणा और पुलिस अधीक्षक विजया लक्ष्मी ने रविवार को संवाददाता सम्मेलन में बताया कि गिरफ्तार आतंकी कलीमउद्दीन का सहयोगी महोम्मद अब्दुल रहमान अली खान और हैदर उर्फ मसूद उत्कट अभी दिल्ली के तिहाड़ जेल में बंद है। वहीं अब्दुल समी उर्फ आसन और अहमद मसूद अकरम और राजू तथा नसीम अख्तर और जीशान हैदर भी तिहाड़ जेल में बंद है। उन्होंने बताया कि मोहम्मद कलीमउद्दीन आतंकी संगठन अलकायदा संगठन के संपर्क में रहकर जेहाद और आतंकवादी घटनाओं के लिए युवाओं को प्रेरित करता था। इसके द्वारा युवाओं को प्रेरित कर संगठन से जोड़ने और उन्हें प्रशिक्षण के लिए बाहर भेजने का काम करता था।
कलीमउद्दीन के बारे में यह भी जानकारी मिली है कि वह विभिन्न आतंकवादी संगठनों द्वारा चलाये जा रहे जेहादी प्रशिक्षण शिविर में युवाओं को भेजने का काम करता था, अधिकांश जेहादी प्रशिक्षण शिविर मुख्यतः पाकिस्तान में होने की भी जानकारी मिली है।  बताया गया है कि कलीमउद्दीन अब अब तक सैकड़ों युवाओं को इन प्रशिक्षण शिविर में शामिल होने के लिए भेज चुका है। एटीएस और अन्य जांच एजेंसियों के वरीय अधिकारी कलीमउद्दीन से आतंकी कनेक्शन के बारे में और अधिक जानकारी हासिल करने में जुटे है। यह भी जानकारी मिली है कि पकड़ा गया आतंकी स्लीपर सेल की सहायता से देश को दहलाने की साजिश रच रहा था। अलीमउद्दीन मुजाहिर जमशेदपुर के मानगो इलाके के आजादनगर थाना क्षेत्र का रहना था और फरारी के बाद जांच एजेंसियां उसके घर की कुर्की–जब्ती की भी कार्रवाई कर चुकी है।

Tags

Related Articles

Close