व्यापार

सेंसेक्स ने अपना ही रिकॉर्ड तोड़कर रचा इतिहास, पहली बार 2284 अंक उछला

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) की तरफ से कॉरपोरेट टैक्स (Corporate Tax Cut) में कटौती होने और कैपिटल गेन्स पर सरचार्ज नहीं लगाने के ऐलान के साथ ही शेयर बाजार (Share Market) ने हफ्ते के आखिरी कारोबारी दिन रफ्तार पकड़ ली. सुबह करीब 11 बजे से शुरू हुआ शेयर बाजार में तेजी का सिलसिला कारोबारी सत्र के अंत तक जारी रहा. इसी के साथ सेंसेक्स ने अपने नाम एक और रिकॉर्ड कर लिया. कारोबारी सत्र के दौरान दोपहर करीब 2.20 बजे सेंसेक्स ने पिछले सभी रिकॉर्ड तोड़ते हुए 2284.55 अंक की तेजी हासिल कर ली. यह एक दिन में अब तक की सबसे बड़ी उछाल है.
1809 शेयर में मजबूती का माहौल
हालांकि कुछ देर बाद ही शेयर बाजार में थोड़ी गिरावट देखी गई और कारोबारी सत्र के अंत में सेंसेक्स 1,921.15 चढ़कर 38014.62 के स्तर पर बंद हो गया. निफ्टी में भी शुक्रवार को रिकॉर्ड तेजी देखी गई और यह 569.4 अंक की उछाल के साथ 11274.20 के स्तर पर बंद हुआ. यह पिछले 10 साल में निफ्टी की एक दिन में सबसे बड़ी बढ़त है. पूरे कारोबारी सत्र में कुल 1809 शेयर में मजबूती, 726 शेयर में गिरावट और 134 शेयर बिना किसी बदलाव के कारोबारी सत्र के अंत में बंद हो गए.
6 प्रतिशत की जोरदार उछाल
सेंसेक्स में कारोबारी सत्र के दौरान दर्ज की गई 6 प्रतिशत की जोरदार उछाल की अगर आंकड़ों के हिसाब से बात करें तो यह अब तक की सबसे बड़ी उछाल है. इससे पहले 18 मई, 2009 को शेयर बाजार 2,110 अंक उछला था. उस समय तत्कालीन यूपीए सरकार के सत्ता में लौटने का शेयर बाजार ने स्वागत किया था.
इन शेयर में रिकॉर्ड तेजी
शुक्रवार को कारोबार के दौरान ऑटो, बैंक, मेटल, इंफ्रा, एफएमसीजी, फॉर्मा और एनर्जी से जुड़ी कंपनियों के शेयर में तेजी दर्ज की गई. निफ्टी में आयशर मोटर्स, हीरो मोटोकॉर्प, इंडसइंड बैक, अल्ट्राटेक सीमेंट और मारुति सुजुकी ने सबसे ज्यादा बढ़त हासिल की. वहीं पावर ग्रिड, इनफोसिस, टीसीएस और एनटीपीसी में गिरावट आई.
बंबई स्टॉक एक्सचेंज (BSE) के डाटा के अनुसार वित्त मंत्री की तरफ से की गई घोषणा के बाद शेयर बाजार लगातार चढ़ने लगा. कुछ ही देर में निवेशकों के उत्साह से मार्केट कैपिटलाइजेशन 143.45 लाख करोड़ रुपये पर पहुंच गया. यहीं गुरुवार को कारोबारी सत्र के अंत में 138.54 लाख करोड़ रुपये था. यानी करीब एक घंटे के दौरान ही निवेशकों ने करीब 5 लाख करोड़ रुपये हासिल कर लिए.
 

Tags

Related Articles

Close