मध्य प्रदेश

श्रद्धा की दो बूंदे आंखों से छलका दें, तर्पण हो जाएगा : पं. महेश शर्मा 

इन्दौर । माता-पिता और पूर्वजों के कर्ज से हम कभी मुक्त नहीं हो सकते लेकिन जाने-अनजाने में यदि हमसे कोई भूल, त्रुटि या अपमान जैसा कर्म हो गया है तो श्राद्धपक्ष में उनका प्रायश्चित करने के लिए तर्पण अनुष्ठान से श्रेष्ठ कोई साधन नहीं है। तर्पण की प्रक्रिया मजबूरी से नहीं, मन की मजबूती से करना चाहिए। शास्त्रों में तर्पण के अनेक प्रावधान हैं लेकिन सच्चा तर्पण तो यही होगा कि हम अपने आंसू की दो बूंदे भी अपने दिवंगतों को समर्पित कर दें तो यह उनके अभिषेक और श्राद्ध से कम नहीं होगा।
ये प्रेरक विचार हैं सांई भक्त पं. महेश शर्मा के, जो उन्होंने बड़ा गणपति चौराहा, पीलियाखाल स्थित हंसदास मठ पर हंसपीठाधीश्वर महंतश्री रामचरणदास महाराज के सानिध्य एवं परशुराम महासभा के पं. पवन शर्मा के विशेष आतिथ्य में चल रहे तर्पण अनुष्ठान में व्यक्त किए। हरिद्वार से आए पं. कैलाश शर्मा, स्काउट एंड गाईड्स के उपायुक्त भंवर शर्मा एवं म.प्र. परशुराम महासभा के अध्यक्ष पं. वीरेंद्र शर्मा ने भी तर्पण स्थल पहुंच कर इस अनुष्ठान की खुले मन से प्रशंसा की। प्रारंभ में श्रद्धा सुमन सेवा समिति की ओर से आचार्य पं. पवन तिवारी के निर्देशन में चल रहे इस अनुष्ठान में मोहनलाल सोनी, हरि अग्रवाल, राजेंद्र गर्ग, डॉ. चेतन सेठिया, सूरजसिंह राठौर, जगमोहन वर्मा, मुरलीधर धामानी, श्याम अग्रवाल आदि ने अतिथियों का स्वागत किया। आरती में सीए सीताराम सोनी, अभिभाषक कमल गुप्ता, राजकुमारी मिश्रा, गीता शर्मा, वर्षा जैन, पुरूषोत्तम मेंड़तवाल, भगवती प्रसाद कुमावत, राकेश चौहान आदि ने सभी साधकों के साथ भाग लिया। तर्पण अनुष्ठान में आज भी 400 से अधिक साधक शामिल हुए। संचालन किया हरि अग्रवाल ने और आभार माना राजेंद्र गर्ग ने। अनुष्ठान में प्रतिदिन देश के स्वतंत्रता सेनानियों, शहीद जवानों, होलकर राज्य के शासकों एवं गौमाता के लिए भी तर्पण किया जा रहा है। आज बड़ी संख्या में रतलाम, खंडवा, मुंबई, पुणे एवं अन्य शहरों के परिजन भी तर्पण अनुष्ठान में शामिल हुए।
:: कल से पितृमोक्षदायी भागवत :: 
संयोजक मोहनलाल सोनी एवं हरि अग्रवाल ने बताया कि हंसदास मठ पर चल रहे तर्पण अनुष्ठान के साथ 21 से 27 सितंबर तक पितृमोक्षदायी भागवत का आयोजन भी प्रतिदिन दोपहर 2 से सांय 5 बजे तक होगा। पहले दिन सुबह 11 से दोपहर 1 बजे तक तथा शेष दिनों में दोपहर 2 से 5 बजे तक संगीतमय भागवत कथा आचार्य पं. पवन तिवारी करेंगे। तर्पण अनुष्ठान पूर्ववत सुबह 8 से 10 बजे तक 28 सितंबर तक जारी रहेगा।

Tags

Related Articles

Close