मध्य प्रदेश

 स्टार्टअप्स की सफलता हेतु उद्देश्य, लक्ष्य, अच्छे आइडियाज एवं कठिन परिश्रम का होना आवश्यक : पद्मश्री जनक पाल्टा 

इन्दौर । किसी भी स्टार्टअप की सफलता इस बात पर निर्भर करती है कि उसे शुरू करने के पीछे आपका उद्देश्य क्या है। अतः आवश्यक है कि छात्र किसी भी स्टार्टअप को शुरू करने से पहले  उसके पीछे के मूल उद्देश्य को पहचानें।  
यह बात सुप्रसिद्ध समाजसेवी एवं जिम्मी मगिलिगन सेंटर फॉर सस्टेनेबल डेवलपमेंट की प्रमुख पद्मश्री जनक पाल्टा मैकगिलिगन ने मंगलवार को प्रेस्टीज इंस्पायर फाउंडेशन अटल इन्क्यूबेशन सेंटर के प्रथम स्थापना दिवस समारोह में `समृद्ध भारत हेतु  इनोवेशन एवं एन्त्रेप्रेंयूर्शिप' विषय पर आयोजित एक परिचर्चा में कही। प्रेस्टीज इंस्पायर फाउंडेशन अटल इन्क्यूबेशन सेंटर में कार्य कर रहे स्टार्टअप्स द्वारा विभिन्न क्षेत्रों में किये जा रहे कार्यों की सराहना की। साथ ही उन्होंने स्टार्टअप्स उद्यमियों से कहा कि स्टार्टअप्स की सफलता इस बात पर निर्भर करती है कि आपके उत्पाद की गुणवत्ता कैसी है और उस उत्पाद को बनाने के पीछे आपके मकसद क्या हैं? एम्पावरमेंट को दीर्घकालीन विकास हेतु आवश्यक मानते हुए उन्होंने कहा कि उनकी नजर में विश्व का कल्याण एवं सभी प्राणियों में भाईचारा का मूलमंत्र ही सस्टेनेबल डेवलपमेंट (दीर्घकालीन विकास) की परिभाषा है। जनक पाल्टा ने कहा कि सस्टेनेबिलिटी का अर्थ है कि हर व्यक्ति एक दूसरे को बराबरी का समझे।
इंजीनियर बाबू की संस्थापक सीइओ अदिति चौरस‍िया ने कहा कि किसी भी स्टार्टअप की सफलता के लिए सही कारण, सही विज़न और पैशन का होना आवश्यक है। अदिति जिन्होंने अल्प समय में ही अपनी कंपनी इंजीनियर बाबू को आईटी के क्षेत्र में राष्ट्रिय पटल पर स्थापित किया, ने कहा कि यदि जनून हो तो एक महिला कुछ भी कर सकती है। मैंने अपनी पढाई बायोलॉजी से करने के बाद भी आई टी कंपनी की शुरुआत की, यह इस बात का सबुत है कि यदि आपमें किसी चीज़ को करने की ललक हो, जिद्दीपन हो तो निश्चय ही आप उस कार्य में सफलता प्राप्त करते हैं। 
इंडस्ट्रियल एवं होम कूलिंग में इन्दौर का नाम राष्ट्रिय स्तर पर फैलाने वाली इन्दौर स्थित डॉ. प्रियंका मोक्षमार ने कहा कि किसी भी स्टार्टअप को सफल होने के लिए एक पुख्ता उद्देश्य का होना आवश्यक है। वैसे तो जीवन को विलासितापूर्ण, आरामदेह बनाने की दिशा में बहुत सारी स्टार्टअप्स कार्य कर रही हैं, पर आज हमें  आवश्यकता है की हम स्टार्टप्स के माध्यम से ऐसे उत्पादों का निर्माण करें जिससे की देश का, समाज का एवं मानवता का कल्याण हो। 
डिज़ाइन स्टूडियो के संस्थापक देवल वर्मा ने कहा कि स्टार्टअप्स की सफलता के लिए एक उद्देश्य एवं लक्ष्य होने के साथ साथ कठिन परिश्रम एवं सहनशीलता  स्टार्टअप के सफलता में उत्प्रेरक का कार्य करता है। 
इन्क्यूबेशन सेंटर के डायरेक्टर एवं प्रेस्टीज एजुकेशन सोसाइटी के वाईस चेयरमेन डॉ. डेविश जैन ने कहा कि प्रेस्टीज प्रबंध संस्थान स्थित अटल इन्क्यूबेशन सेंटर अपनी स्थापना के अल्प समय में ही अनेकों स्टार्टप्स की सफलता में, उनके आइडियाज को संसाधनों, मार्किट डेवलपमेंट तथा वेंचर कैपिटल के माध्यम से मूर्तरूप देने में अग्रणी भूमिका निभा रहा है और आज इसी का परिणाम है कि अटल इन्क्यूबेशन सेंटर में  एयर प्यूरीफायर के क्षेत्र में  कार्य कर रही नोवोरबीस जैसी स्टार्टअप को भारत सरकार के मानव संसाधन मंत्रालय द्वारा देश के शीर्ष पांच स्टार्टअप्स में चुना गया है। 
इन्क्यूबेशन सेंटर की मेंटर डॉ. रंजना पटेल ने छात्रों से आवाहन किया कि यदि उनके पास नए आइडियाज हैं तो अटल इन्क्यूबेशन सेंटर उनके आइडियाज  को  सफल  बनाने हर तरह से उनका साथ देगा।  उन्होंने कहा कि अटल इन्क्यूबेशन सेंटर में कार्य करने वाले स्टार्टअप्स की  संख्या में और अधिक वृद्धि होगी। समारोह को प्रेस्टीज इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट एंड रिसर्च (यूजी) के डायरेक्टर इंचार्ज डॉ आर के शर्मा ने भी सम्बोधित किया।
इस अवसर अटल इन्क्यूबेशन सेंटर में विभिन्न क्षेत्रों में कार्य कर रहे स्टार्टअप्स ने प्रेजेंटेशन दिए। अतिथितियों द्वारा नोवोरबीस स्टार्टअप के संस्थापकों को देश पांच शीर्ष स्टार्टअप्स में सम्मिलित होने तथा अटल इन्क्यूबेशन सेंटर में कार्य कर रहे अन्य दो स्टार्टअप्स – `जवाब दो' एवं `चाय नेटवर्क'  को भी आई  4 समिट में पुरे मध्य प्रदेश में विजेता एवं द्वितीय उप विजेता बनने के लिए सम्मानित किया गया।

Tags

Related Articles

Close